उर्दू ज़ुबान का पसमांदा अदब कहाँ है?

अशराफ वर्ग पसमांदा समाज को अहल-ए-जबान में शामिल नहीं करते थे। इसका असर भी उर्दू अदब में नजर आता है। 85 प्रतिशत पसमांदा समाज को, उनकी समस्याओं को और उनकी संस्कृति को सिरे से खारिज कर दिया गया है।

उर्दू अदब में प्रगतिशील आंदोलन का भी एक दौर चला है, पर उनकी सारी प्रगतिशीलता अपनी जाति पर आकर खत्म हो गई। इन्होंने खुदा की जात को तो आड़े हाथों लिया, पर अपनी जात पर कुछ नहीं लिखा। यह बताना आवश्यक नहीं है कि प्रगतिशील आंदोलन के शुरुआती दौर में लिखने वाले सभी लोग उच्च जाति के थे।चूंकि उर्दू पर अशराफ लोगों का वर्चस्व है और इन्हीं के पास तमाम संसाधन हैं। इसीलिए यही तय करते हैं कि गजल के मौजू (मुद्दे) क्या हों! अगर पसमांदा शायर और लेखक कुछ लिखते हैं, तो उसे अदब के स्तर का ना मानकर खारिज कर दिया जाता है।यही वजह है कि पसमांदा शायर अपने लूम, साड़ी, कपड़े, बानी, खेती-किसानी, अपने मवेशी, कपड़े और अपने समाज की परेशानी वगैरह पर शेर न लिखकर अशराफों की तरह औरतों की कमर और उनकी जुल्फों पर शायरी करते नजर आ जाते हैं।

Read More